Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

मतला से शुरुआत ….
*********************
क्यूँ लहजा तेरा शायराना नहीं है
लिखी क्यों ग़ज़ल जो सुनाना नहीं है

बहुत प्यार मुझको मिला वालिदा का
मुझे प्यार को यूँ गंवाना नहीं है

हुई है मोहब्बत बताएं भी कैसे
अजी मौका ये आशिकाना नहीं है

हरिक बात पर तुम दिखाते हो नखरे
रुलाते हो क्यूँ जब मनाना नहीं है

तिजारत बनी है हमारी मोहबबत
मेरी ही तरफ तो निशाना नहीं है

मेरी दिल्लगी को शरारत समझना
मेरा काम उनको रिझाना नहीं है

ज़रा देर तो तुम यहाँ पास बैठो
नहीं बैठने का बहाना नहीं है

तुम्हारे सिवा मैं कहाँ जाऊं मौला
जहाँ में कहीं भी ठिकाना नहीं है

मक्ता ….

हुई है मोहब्बत मुझे तुम से ‘आभा’
यही बात तुमको बताना नहीं है
….आभा

2 Likes · 3 Comments · 488 Views
You may also like:
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
मां के आंचल
Nitu Sah
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
*लड़कियाँ (गीतिका)*
Ravi Prakash
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
पथिक मैं तेरे पीछे आता...
मनोज कर्ण
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
जातिगत आरक्षण
Shekhar Chandra Mitra
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
कारस्तानी
Alok Saxena
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा
नवल किशोर सिंह
✍️✍️किरदार चाहिए था✍️✍️
'अशांत' शेखर
Little sister
Buddha Prakash
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
स्वतंत्रता दिवस
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"कलयुग का मानस"
Dr Meenu Poonia
Loading...