Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

दिल बनाया भगवान् ने, और रख दिया सजा के इंसान के अंदर
फिर भी सब से पहले लगती है ठोकर इस मासूम को दिल के अंदर !!

न जाने क्यूं, लगा लेता है अपना दिल , किसी और के दिल के अंदर
फिर अपने आप खुद को समझाता और उलझता है इस संसार के अंदर !!

इस की मासूमियत तो सब से ही ज्यादा निराली है हर एक के अंदर
अपना बना लेने को पल पल न जाने क्या क्या सोचता है दिल के अंदर !!

इतना पास आ जाता है , की दूर होने पर खुद घबराता है अपने अंदर
न सोच जब पूरी होती , तो, चला जाता है, मैखाने में सब से अंदर !!

याद करता, वफ़ा का वास्ता देता, उस अपने प्यारे का बनाने को सिकंदर
पर वो वफ़ा, जब तब्दील हो जाती, किसी बेवफाई का का रूप ले उस के अंदर !!

बर्बाद होने को बस पल पल का इन्तेजार करता ,और ठोकरे खाता ,बन के बंदर
एक दिन मौत पास आ कर उस से पूछती, बोल अब तो चल “ओ” मेरे सिकंदर !!

“अजीत” दिल दिया था रब ने , कुछ कर गुजरने को, तुझे इस जनम के अंदर
पर लगा के दिल को ,किसी और के लिए, बर्बादी का भर गया सारा समंदर !!

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
The Sound of Birds and Nothing Else
The Sound of Birds and Nothing Else
R. H. SRIDEVI
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
*वैराग्य (सात दोहे)*
*वैराग्य (सात दोहे)*
Ravi Prakash
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
आवाहन
आवाहन
Shyam Sundar Subramanian
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
दिल पागल, आँखें दीवानी
दिल पागल, आँखें दीवानी
Pratibha Pandey
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
2682.*पूर्णिका*
2682.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
शेखर सिंह
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Harekrishna Sahu
Loading...