Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

यह रिश्ता बड़ा नाजुक होता है,
जिस में इंसान पता नहीं
क्या क्या खोता है !!

प्यार कि भाषा में कभी कभी
मीठा जेहर घुला हुआ होता है,

जिन पर विश्वाश करो प्यार में
उन से ही मिला होता धोखा है ,

इन रिश्तो कि डोर को टूटने में
जयादा वकत ख़त्म नहीं होता है,

पल भर में टूट जाते हैं, जिन को
बांधने में इंसान सारी उम्र बोता है,

सोचता नहीं उस पल के बारे में
जो साथ साथ बिताया होता है,

चला देता है, गोली और खंजर उस पर
जिस के साथ चलने को वो कसम लेता है,

क्यों हैवानियत को अपने ऊपर ढोता है,
इंसान कि भाषा में क्यों नहीं वो इंसान होता है,

बांध कर उस बंधन को क्यों वो सात फेरे लेता है,
जो अगले ही पल उस कि भावनाओं से खेलता है,

अनजाने में भी किसी रिश्ते का न अत्याचार करो,
सोच , समझ, कर ही रिश्ते का गठजोड़ करो,

ग़लतफहमीओं से घर संसार का सत्य नाश होता है,
बाद पछताता है इंसान जब रिश्ता टूटने का एहसास होता है,

खामियन हर इंसान में होती है,किसी में कम किसी में ज्यादा होती हैं
काश ! अपनी खामिओं का भी तो अपने अंदर विश्लेषण एक बार करो,

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
कभी चुपचाप  धीरे से हमारे दर पे आ जाना
कभी चुपचाप धीरे से हमारे दर पे आ जाना
Ranjana Verma
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
कविता
कविता
Vandana Namdev
हिद्दत-ए-नज़र
हिद्दत-ए-नज़र
Shyam Sundar Subramanian
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
SUDESH KUMAR
"अनकही सी ख़्वाहिशों की क्या बिसात?
*Author प्रणय प्रभात*
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
3010.*पूर्णिका*
3010.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
"हर सुबह कुछ कहती है"
Dr. Kishan tandon kranti
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम मेरे बाद भी
तुम मेरे बाद भी
Dr fauzia Naseem shad
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
शिव स्तुति
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
Sangeeta Beniwal
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...