Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

दर्द को अब मुँह चिढ़ाना आ गया,
आसुंओं में मुस्कुराना आ गया।

फ़र्ज़ पर देकर बयाना मौत को,
क़र्ज़ साँसों का चुकाना आ गया।

हाय कातिल वो निगाहों की छुरी,
सिम्त दिल के अब निशाना आ गया।

चाशनी में घोलकर गुफ़्तार को,
काम उनको भी बनाना आ गया।

आहटें दिल पर नए तूफ़ान की,
लग रहा वापिस दिवाना आ गया।

ख्वाब के पंछी चलो आओ इधर,
दिल लिए अश्क़ों का दाना आ गया।

दिल को तेरी याद के शामो सहर,
रेशमी पर्दे हिलाना आ गया।

भूख से बिलखेंगे बच्चे अब नहीं,
बेच ईमां धन कमाना आ गया।

बोझ बनने जब लगी फरमाइशें,
याद बाबूजी का शाना आ गया।

ज़ीस्त का हासिल ‘शिखा’ इतना ही बस,
दर्द ओढ़े गम बिछाना आ गया।

दीपशिखा सागर-

1 Like · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
■ हिप-हिप हुर्रे...
■ हिप-हिप हुर्रे...
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
सीमा पर तनाव
सीमा पर तनाव
Shekhar Chandra Mitra
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
ਮਿਲਣ ਲਈ ਤਰਸਦਾ ਹਾਂ
ਮਿਲਣ ਲਈ ਤਰਸਦਾ ਹਾਂ
Surinder blackpen
तुम्हारे सिवा और दिल में नहीं
तुम्हारे सिवा और दिल में नहीं
gurudeenverma198
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
फिर से अरमान कोई क़त्ल हुआ है मेरा
Anis Shah
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
दान
दान
Neeraj Agarwal
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
Dr fauzia Naseem shad
वो आए थे।
वो आए थे।
Taj Mohammad
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...