Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

ग़ज़ल /

मुझे आज तुझसे पड़ा काम साकी ।
तेरे हाथ में है मेरा ज़ाम साकी ।

न यारों , न महबूब और न किसी के,
तेरे नाम होगी मेरी शाम साकी ।

मै बदनाम होके बनूँ नामवर – सा,
अगर लेगा तू जो , मेरा नाम साकी ।

तू चाहे तो थोड़ी सी इज़्ज़त मिलेगी,
वगरना हूँ अब तक मैं बदनाम साकी ।

चढ़ा जो नशा , फिर उतरता नहीं है,
ये मस्तों की मस्ती का पैगाम साकी ।

कि अल्लाह,’ईश्वर’,पयम्बर कि ख़ुद में,
वो रहता इन्हीं में है गुमनाम साकी ।

—- ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
12 Likes · 20 Comments · 363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कूड़े के ढेर में
कूड़े के ढेर में
Dr fauzia Naseem shad
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
Bhargav Jha
2482.पूर्णिका
2482.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायरी
शायरी
goutam shaw
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"कैफियत"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...