Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

इतनी कोशिशों के बाद भी तुम्हें कहाँ भूल पाते है
दीवारों से बचते है तो दरवाजे टकराते है।

कौन रुलाए कौन हँसाए मुझको इस तन्हाई में
ख़ुद के आंसू हाथों में ले ख़ुद को रोज हंसाते है।

जाने क्या लिख डाला है हाथों की तहरीरों में
अपनी किस्मत की रेखाएं उलझाते है, सुलझाते है।

तुझको किन ख़्वाबों में खोजूँ जागी जागी रातों में
ख़ुद से इतनी दूरी है कि ख़ुद को ढूंढ़ न पाते है।

तेरी यादें दिल में इस हद तक गहरी बैठ गई है
तेरी यादों के दलदल में ख़ुद को भूल जाते है।

तुमने सोचा होगा बिन तेरे हम खुश कैसे है
दिल में अश्कों का दरिया है,बाहर हम मुस्काते है।

1 Comment · 692 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुंडलिया. . .
कुंडलिया. . .
sushil sarna
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
एहसास दिला देगा
एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
"'मोम" वालों के
*प्रणय प्रभात*
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
-शेखर सिंह ✍️
-शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/210. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/210. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
पवन
पवन
Dinesh Kumar Gangwar
*कण-कण में भगवान हैं, कण-कण में प्रभु राम (कुंडलिया)*
*कण-कण में भगवान हैं, कण-कण में प्रभु राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...