ग़ज़ल

इतनी कोशिशों के बाद भी तुम्हें कहाँ भूल पाते है
दीवारों से बचते है तो दरवाजे टकराते है।

कौन रुलाए कौन हँसाए मुझको इस तन्हाई में
ख़ुद के आंसू हाथों में ले ख़ुद को रोज हंसाते है।

जाने क्या लिख डाला है हाथों की तहरीरों में
अपनी किस्मत की रेखाएं उलझाते है, सुलझाते है।

तुझको किन ख़्वाबों में खोजूँ जागी जागी रातों में
ख़ुद से इतनी दूरी है कि ख़ुद को ढूंढ़ न पाते है।

तेरी यादें दिल में इस हद तक गहरी बैठ गई है
तेरी यादों के दलदल में ख़ुद को भूल जाते है।

तुमने सोचा होगा बिन तेरे हम खुश कैसे है
दिल में अश्कों का दरिया है,बाहर हम मुस्काते है।

1 Comment · 317 Views
You may also like:
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
पिता
Deepali Kalra
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H.
मन की मुराद
मनोज कर्ण
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...