Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
आ के इक बार , दिल से न जाये कोई !
किसने छोड़ा है ,दिल को बताये कोई !

सब को हक है कहो ,बात अपनी मगर ,
शांत मन से सुनो , जब सुनाये कोई !

नींद भी ,चैन भी , साथ वो ले गया ,
जिस तरह हम लुटे दिल न लुटाये कोई !

है कहाँ वो जगह ,जहाँ पे नहीं है खुदा,
वो वहीं है , जहाँ भी बुलाये कोई !

Language: Hindi
1 Comment · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
नेता का अभिनय बड़ा, यह नौटंकीबाज(कुंडलिया )
Ravi Prakash
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
1) आखिर क्यों ?
1) आखिर क्यों ?
पूनम झा 'प्रथमा'
मेरे हिसाब से
मेरे हिसाब से
*Author प्रणय प्रभात*
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
फांसी के तख्ते से
फांसी के तख्ते से
Shekhar Chandra Mitra
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
मजदूर की अन्तर्व्यथा
मजदूर की अन्तर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
यकीं मुझको नहीं
यकीं मुझको नहीं
Ranjana Verma
औरत
औरत
Shweta Soni
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
Loading...