Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ग़ज़ल

शाइर से शाइर जलने लगे हैं ।
खूँ के वो भूँके दिखने लगे हैं ।

यारों हमको भी जलना पड़ा है।
उनकी खातिर जो लिखने लगे हैं ।

रुकते रुकते मेरा दिल है धड़का
गलियों में अक्सर रुकने लगे हैं ।

हम बचते भी बचते कैसे’ बचते।
ख्यालों के बाहर मिलने लगे हैं।

उनसे कह के तो आये न आना
पर राहें उनकी चलने लगे हैं ।

दर्द-ए-तुह्फ़ा हाँ “तेजस” क़ुबूले ।
इश्क-ए-आयत अब पढ़ने लगे हैं ।

©प्रणव मिश्र’तेजस’

156 Views
You may also like:
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Mamta Rani
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
देश के नौजवानों
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Green Trees
Buddha Prakash
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
अधुरा सपना
Anamika Singh
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
पिता
Ram Krishan Rastogi
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
Loading...