Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (हार-जीत)

ग़ज़ल (हार-जीत)

पाने को आतुर रहतें हैं खोने को तैयार नहीं है
जिम्मेदारी ने मुहँ मोड़ा ,सुबिधाओं की जीत हो रही

साझा करने को ना मिलता , अपने गम में ग़मगीन हैं
स्वार्थ दिखा जिसमें भी यारों उससे केवल प्रीत हो रही

कहने का मतलब होता था ,अब ये बात पुरानी है
जैसा देखा बैसी बातें .जग की अब ये रीत हो रही

अब खेलों में है राजनीति और राजनीति ब्यापार हुई
मुश्किल अब है मालूम होना ,किस से किसकी मीत हो रही

क्यों अनजानापन लगता है अब, खुद के आज बसेरे में
संग साथ की हार हुई और तन्हाई की जीत हो रही

ग़ज़ल (हार-जीत)
मदन मोहन सक्सेना

367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एकतरफ़ा इश्क
एकतरफ़ा इश्क
Dipak Kumar "Girja"
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
अच्छाई बाहर नहीं अन्दर ढूंढो, सुन्दरता कपड़ों में नहीं व्यवह
अच्छाई बाहर नहीं अन्दर ढूंढो, सुन्दरता कपड़ों में नहीं व्यवह
Lokesh Sharma
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
*** मुफ़लिसी ***
*** मुफ़लिसी ***
Chunnu Lal Gupta
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
😊अनुरोध😊
😊अनुरोध😊
*प्रणय प्रभात*
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
"खेलों के महत्तम से"
Dr. Kishan tandon kranti
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
2994.*पूर्णिका*
2994.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
किस्मत भी न जाने क्यों...
किस्मत भी न जाने क्यों...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
Loading...