Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही )

ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही )

ये जीबन यार ऐसा ही ,ये दुनियाँ यार ऐसी ही
संभालों यार कितना भी आखिर छूट जाना है

सभी बेचैन रहतें हैं ,क्यों मीठी बात सुनने को
सच्ची बात कहने पर फ़ौरन रूठ जाना है

समय के साथ बहने का मजा कुछ और है प्यारे
बरना, रिश्तें काँच से नाजुक इनको टूट जाना है

रखोगे हौसला प्यारे तो हर मुश्किल भी आसां है
अच्छा भी समय गुजरा बुरा भी फूट जाना है

ये जीबन यार ऐसा ही ,ये दुनियाँ यार ऐसी ही
संभालों यार कितना भी आखिर छूट जाना है

ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही )
मदन मोहन सक्सेना

149 Views
You may also like:
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हे ईश्वर!
Anamika Singh
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
मेहरबानी
"अशांत" शेखर
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
वो
Shyam Sundar Subramanian
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
चाय की चुस्की
श्री रमण
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...