Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ”……..पुरानी दास्ताँ जो दरमियाँ..”

——————————————
ग़लतफ़हमी हार जायेगी मियाँ
दोस्ती जीतेगी सारी बाजियाँ।

उन तलक फिर भी गयी न बात वो
थी पुरानी दास्ताँ जो दरमियाँ

मिल गया होता खुदा गर आज तो
कह नहीं पाता चंद फ़क़त अर्जियाँ

रो रहा हूँ शाम से सुबहो तलक
दे रही है हौसला अफजाईयाँ

गो सुकूँ ऐसा मरहम लगा दिया
उफ़ जवानी की ज़ख्मी गुस्ताखियाँ

ये जवाब सवाल का उसने दिया
चुप रही है बहुत सी मजबूरियाँ

इक झलक से शांत हो जाता बंटी
है नसीबन हाय मुकर्रर दूरियाँ
———————————–
रजिंदर सिंह ”छाबड़ा ”

327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
कवि रमेशराज
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
मुझे प्रीत है वतन से,
मुझे प्रीत है वतन से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-530💐
💐प्रेम कौतुक-530💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2439.पूर्णिका
2439.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ Rãthí
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
वक्त कब लगता है
वक्त कब लगता है
Surinder blackpen
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
■ #ग़ज़ल / अक़्सर बनाता हूँ....!
■ #ग़ज़ल / अक़्सर बनाता हूँ....!
*Author प्रणय प्रभात*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...