Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 3, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल /गीतिका

ग़ज़ल

अवाम में सभी जन हैं इताब पहने हुए
सहिष्णुता सभी की इजतिराब पहने हुए |

गरीब था अभी तक वह, बुरा भला क्या कहें
घमंडी हो गया ताकत के ख्याब पहने हुए |

मसलना नव कली को जिनकी थी नियत, देखो
वे नेता निकले हैं माला गुलाब पहने हुए |

अवैध नीति को वैधिक बनाना है धंधा
वे करते केसरिया कीनखाब पहने हुए |

शबे विसाल की दुल्हन को इंतज़ार रहा
शबे फिराक हुई इजतिराब पहने हुए |

शबे दराज़ तो बीती बिना पलक मिला कर
सनम नहीं कहीं भी तो सराब पहने हुए |

शब्दार्थ :
इताब –गुस्सा ; इजतिराब –बेचैनी
कीनखाब – रेशमी वस्त्र ,कपड़ा ; सराब – मृग मरीचिका ,भ्रम
शबे विसाल – मिलन की रात: शबे फिराक – विरह की रात
शबे दराज़ –लम्बी रात

© कालीपद ‘प्रसाद’

108 Views
You may also like:
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
धुँध
Rekha Drolia
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
बचपन की यादें
अनामिका सिंह
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुमको भूल ना पाएंगे
Alok Saxena
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
पथ पर बैठ गए क्यों राही
अनामिका सिंह
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
✍️ग़लतफ़हमी✍️
"अशांत" शेखर
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...