Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2016 · 1 min read

ग़ज़ल /गीतिका

ग़ज़ल

अवाम में सभी जन हैं इताब पहने हुए
सहिष्णुता सभी की इजतिराब पहने हुए |

गरीब था अभी तक वह, बुरा भला क्या कहें
घमंडी हो गया ताकत के ख्याब पहने हुए |

मसलना नव कली को जिनकी थी नियत, देखो
वे नेता निकले हैं माला गुलाब पहने हुए |

अवैध नीति को वैधिक बनाना है धंधा
वे करते केसरिया कीनखाब पहने हुए |

शबे विसाल की दुल्हन को इंतज़ार रहा
शबे फिराक हुई इजतिराब पहने हुए |

शबे दराज़ तो बीती बिना पलक मिला कर
सनम नहीं कहीं भी तो सराब पहने हुए |

शब्दार्थ :
इताब –गुस्सा ; इजतिराब –बेचैनी
कीनखाब – रेशमी वस्त्र ,कपड़ा ; सराब – मृग मरीचिका ,भ्रम
शबे विसाल – मिलन की रात: शबे फिराक – विरह की रात
शबे दराज़ –लम्बी रात

© कालीपद ‘प्रसाद’

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from kalipad prasad
View all
You may also like:
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
धर्मग्रंथों की समीक्षा
धर्मग्रंथों की समीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
■ विचार
■ विचार
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
"बच्चों की दुनिया"
Dr Meenu Poonia
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
स्वार्थी नेता
स्वार्थी नेता
पंकज कुमार कर्ण
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...