Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#21 Trending Author

ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे

ग़ज़ल- चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
अगर इतरा रहे हो तुम जो अपनी शान के आगे
चलेगी एक तेरी क्या समय बलवान के आगे

ये माना आसमाँ का भी तू सीना चीर सकता है
मगर तू जा नहीं सकता कभी शमशान के आगे

ग़मों की आँधियों में भी खुशी के सिलसिले देखो
कि ग़म टिकता कहाँ कोई तेरी मुस्कान के आगे

हमारा यार होता तो सभी दुखड़े सुना देता
मगर अच्छा नहीं लगता किसी अनजान के आगे

अगर वो जा चुका है तो महज रोना है हाथों में
तुम्हारा वश चलेगा क्या कभी भगवान के आगे

जडें ‘आकाश’ होतीं हैं तभी ये फूल खिलते हैं
मगर वो भूल जाता है जरा पहचान के आगे

– आकाश महेशपुरी

243 Views
You may also like:
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
लड़ते रहो
Vivek Pandey
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
यारों की आवारगी
D.k Math
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
✍️कलम और चमच✍️
"अशांत" शेखर
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
मां
हरीश सुवासिया
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
कहाँ चले गए
Taran Verma
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरे पापा!
Anamika Singh
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
डरता हूं
dks.lhp
Loading...