Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया बसाओ तो तुम्हे जाने।

ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया।

चलो रश्मे मुहब्बत को निभाओ तो तुम्हे जाने ।
मेरे एहसास की दुनिया बसाओ तो तुम्हें जाने ।।

वही ज़ुल्फ़ों की शाया है वही है झील सी आँखे ।
बेकाबू दिल की आहट को सुनाओ तो तुम्हे जाने ।।

पढ़ो तुम आज पैमाइस निग़ाहों की बेचैनी को ।
रहे न फ़ासला हरगिज़ मिटाओ तो तुम्हे जाने ।।

प्यासा हूँ सितम ढाती तेरी ख़ामोश मदहोशी ।
लगी है आग़ जो दिल में बुझाओ तो तुम्हे जाने ।।

तड़पती रूह तन्हाई सम्हाली अब नही जाती ।
ज़रा आग़ोश में आकर समाओ तो तुम्हे जाने ।।

तेरे इन शुर्ख़ होठों पर लवों की बूंद सी आकर ।
सजी जामे मुहब्बत को पिलाओ तो तुम्हे जाने ।।

दवा ऐ इश्क़ तो’रकमिश’ज़बाने में नही मिलती ।
वफ़ा ऐ इश्क़ में खुद को लुटाओ तो तुम्हे जाने ।।

राम केश मिश्र’रकमिश’

1485 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
2989.*पूर्णिका*
2989.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
दिल पर करती वार
दिल पर करती वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
*नज़ाकत या उल्फत*
*नज़ाकत या उल्फत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
Ravi Prakash
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शतरंज
शतरंज
भवेश
Loading...