Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल।करे जज़्बात की ख़िदमत वही इंसान होता है ।

ग़ज़ल। करे जज़्बात की खिदमत वही इंसान होता है ।।

लगाकर तोड़ देना दिल बड़ा आसान होता है ।
करे जज़्बात की खिदमत वही इंसान होता है ।।

वफ़ा के नाम पर देखा मुझे साहिल मिला तन्हा ।
सच मे रास्ता सच का बड़ा सुनसान होता है ।।

लगाकर जान की बाज़ी यहा खुद भूल जाये जो ।
इमानत की नज़र में तो वही ईमान होता है ।।

बड़ी ही खुशनसीबी से कोई दिल को लुटाता है
बना रिस्ता खुदा का ही कोई फरमान होता है ।।

यहाँ कमसिन कमीनों के हुजूमो के ही जलवे है ।
ज़रा सी हमवफ़ाई पर बड़ा अभिमान होता है ।।

यहाँ हमआम से ‘रकमिश’ करेगा बेवफ़ाई जो ।
रहे वह उम्र भर ज़िंदा मग़र बेज़ान होता है ।।

राम केश मिश्र’रकमिश’
gajalsahil.blogspot.com

1 Like · 1 Comment · 250 Views
You may also like:
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
अविरल आंसू प्रीत के
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
मादक अखियों में
Dr. Sunita Singh
The Bridge
Buddha Prakash
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
✍️बसेरा✍️
'अशांत' शेखर
कदम
Arti Sen
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
नारी
Dr Meenu Poonia
"डॉ० रामबली मिश्र 'हरिहरपुरी' का
Rambali Mishra
अमृता
Kaur Surinder
भाषा की समस्या
Shekhar Chandra Mitra
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज भी याद है।
Taj Mohammad
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
शुरू खत्म
Pradyumna
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
स्वतंत्रता दिवस
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आदर्श पिता
Sahil
■ यादों का झरोखा (संस्मरण)
*Author प्रणय प्रभात*
Writing Challenge- सपना (Dream)
Sahityapedia
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...