Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल(मन करता है)

ग़ज़ल(मन करता है)

लल्लू पंजू पप्पू फेंकू रबड़ी को अब देख देख कर
अब मेरा भी राजनीती में मन आने को करता है

सच्ची बातें खरी खरी अब किसको अच्छी लगती हैं
चिकनी चिपुडी बातों से मन बहलाने को करता है

रुखा सूखा गन्दा पानी पीकर कैसे रह लेते थे
इफ्तार में मुर्गा ,बिरयानी मन खाने को करता है

हिन्दू जाता मंदिर में और मुस्लिम जाता मस्जिद में
मुझको बोट जहाँ पर मिल जाए, मन जाने को करता है

मेरी मर्जी मेरी इच्छा जैसा चाहूँ बैसा कर दूँ
जो बिरोध में आये उसको, मन निपटाने को करता है

ग़ज़ल(मन करता है)
मदन मोहन सक्सेना

239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
DrLakshman Jha Parimal
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
💐प्रेम कौतुक-283💐
💐प्रेम कौतुक-283💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन मे
जीवन मे
Dr fauzia Naseem shad
2253.
2253.
Dr.Khedu Bharti
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"एक बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...