Sep 7, 2016 · 1 min read

ग़मो ख़ुशी

रहती नहीं मिठास,ज़ुबाँ पर देर तक,
रहती मुई खटास,ज़ुबाँ पर देर तक,
ग़मोख़ुशी का मेल,जो काश हो जाता,
रहती ग़मोख़ुशियाँ,ज़ुबाँ पर देर तक ।

122 Views
You may also like:
मैं
Saraswati Bajpai
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H.
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
Is It Possible
Manisha Manjari
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
Loading...