Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2016 · 1 min read

ग़मो ख़ुशी

रहती नहीं मिठास,ज़ुबाँ पर देर तक,
रहती मुई खटास,ज़ुबाँ पर देर तक,
ग़मोख़ुशी का मेल,जो काश हो जाता,
रहती ग़मोख़ुशियाँ,ज़ुबाँ पर देर तक ।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
182 Views
You may also like:
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Aruna Dogra Sharma
कळस
Shyam Sundar Subramanian
एक पैगाम मित्रों के नाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ यादें जीवन के
Anamika Singh
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
कीर्तन मंडली में तब्दील मीडिया
Shekhar Chandra Mitra
# मां ...
Chinta netam " मन "
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
पिता
Madhu Sethi
कबीरा...
Sapna K S
सच एक दिन
gurudeenverma198
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
कलयुग का परिचय
Nishant prakhar
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
शिवांश सिंघानिया
Loading...