Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

ख़ुद से दिन रात क्यूँ लड़े कोई।

ख़ुद से दिन रात क्यूँ लड़े कोई।
रोज़ ख़ुद क्यूँ मरे जिए कोई।।

किन मसाइल का हल नहीं मिलता।
ज़िन्दगी तुझसे क्यूँ डरे कोई।।

बख़्त में जो भी है लिखा, होगा।
हौसला कम नहीं करे कोई।।

उसको मंज़िल ही जब नहीं मालूम।
उसके रस्ते पे क्यूँ चले कोई।।

बुतपरस्ती ही गर इबादत है।
फिर क्यूँ मंदिर यहाँ लुटे कोई।।

मुझसे उल्फ़त ही जब नहीं रखता।
फिर मेरी राह क्यूँ तके कोई।।

जब ‘अकेला’ है दिल मुक़द्दस फिर।
पाक दामन न क्यूँ रखे कोई।।

अकेला इलाहाबादी

2 Comments · 161 Views
You may also like:
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of...
अमित कुमार
Daily Writing Challenge : कला
'अशांत' शेखर
राख
लक्ष्मी सिंह
सावन
Sushil chauhan
आप कौन है
Sandeep Albela
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
*संस्मरण*
Ravi Prakash
अधूरापन
Harshvardhan "आवारा"
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
भारत के बेटे
Shekhar Chandra Mitra
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
मोहब्बत हो जाए
कवि दीपक बवेजा
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
आखिर किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
Advice
Shyam Sundar Subramanian
प्यारी चिड़ियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
सब्जियों पर लिखी कविता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव अदम्य
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
गणेश चतुर्थी
Ram Krishan Rastogi
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...