Sep 21, 2016 · 1 min read

ख़त

************
“हुई दस्तक दरारों से,निकलकर इंतजार आया,
खुली है खिड़कियाँ देखो,किसी अपने का तार आया।”
———————
“लिफाफा बंद जैसी बेपता सी जिन्दगी ये थी,
वो कुछ लफ्जों में भर मुस्कान,ले खुशियां हज़ार आया।

146 Views
You may also like:
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
मन
शेख़ जाफ़र खान
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मतदान का दौर
Anamika Singh
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कारस्तानी
Alok Saxena
Loading...