Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2020 · 2 min read

*** ” हौंसले तुम्हारे और मेरे प्रयास…….! : ISRO ” ***

* है अदम्य हौंसले तुम्हारे ,
और मेरे अथक प्रयास ।
न हो , हिन्दुस्तानी भाई ;
आज तुम , गुमसुम-सा उदास।
ठान ली है जो हमने , घर बसाना चाँद पर ;
और खोल कर रहेंगे हम , उनकी एक – एक राज़।
हौसले दिये हैं जो , तुमने हमें आज ;
व्यर्थ उसे हम न जाने देंगे।
है जो सपने , तुम्हारे ;
हम उसे एक नई परवाज़ देंगे।
है दुवाओं में तुम्हारे , इतनी ताकत ;
असफलता के हाथ , हम उसे न हारने देंगे।
** तुम्हारे हौंसले के सहारे ही हमनें ,
होकर सवार सायकिल पर ;
अंतरिक्ष की राह बढ़ी है।
अब तो हमारे पास मार्क-३ ( MARK-3 ) है ,
बाहुबली जैसी शक्तिशाली है।
सफलता और असफलता की सिढ़ियो से ही हमने ,
चाँद क्या…….? ;
सूर्य-सतह पर भी कदम रखने की पाठ पढ़ी है।
तुम्हारे विश्वास और हौंसले में ,
है अज़ब-गज़ब ऐसा असर।
पाँच फिट की ऊँचाई वाली पुतला ( आदमी ) पर ,
बसा गई अपना स्थाई घर।
लेकर आज ओ हौंसले की उड़ान ,
१३ लाख किलोमीटर की लंबी सफ़र ;
हो गई तय , मात्र ४८ दिन के ही अंदर।
टूटा है केवल सम्पर्क हमारा ,
” प्रज्ञान-दीप ” से ।
वक्त ने थोड़ा साथ नहीं दिया , तो क्या…..? ;
जिद है हमारी हौसलों की अब ,
लहरायेंगे ” तिरंगा ” चाँद की मंजिल से।
*** बहुत सभंल के चले थे ,
फिर भी फिसल गये हम।
यकीन है हमें , अपनी मेहनत पर यारों ;
कुछ इंतज़ार करो ,
चाँद पर फिर अमर ” प्रज्ञान-दीप ”
जलायेंगे हम।
तेरे हौंसले और मेरे प्रयास के , क्या है..? ,
ओ चाँद को अंदाज ।
आज नहीं तो कल ,
बता देंगे दुनिया को हम ;
कहाँ लगी है दाग़ चाँद पर ,
और खोल जायेंगे ओ अनोखा राज़।

——————++++++—————-

* बी पी पटेल *
बिलासपुर ( छ. ग. )

Language: Hindi
531 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"मेरी कहानी"
Dr. Kishan tandon kranti
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विनती
विनती
Kanchan Khanna
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
■दम हो तो...■
■दम हो तो...■
*प्रणय प्रभात*
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
3444🌷 *पूर्णिका* 🌷
3444🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
May 3, 2024
May 3, 2024
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
कविता
कविता
Rambali Mishra
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शहर में आग लगी है उन्हें मालूम ही नहीं
शहर में आग लगी है उन्हें मालूम ही नहीं
VINOD CHAUHAN
World Emoji Day
World Emoji Day
Tushar Jagawat
Passion for life
Passion for life
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...