Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

हौंसले को समेट कर मेघ बन

केवल रूदन से बदला
नहीं जग का इतिहास
कर्मवीरों ने बदले युग
के सभी ढर्रे सोल्लास
जो हालात के सामने
सहज घुटने देते हैं टेक
इतिहास उनके नाम को
देता कहीं हाशिए पे फेंक
जो हो रहा, होने दो भाव
से काटते हैं जो जिंदगानी
उन्हें कदम कदम पे झेलनी
पड़े यश और सम्मान हानि
रंगीन आसमान देता सदा
सबको खुलकर एक संदेश
हौंसले को समेट कर मेघ
बन कोई उसे सकता छेंक

Language: Hindi
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
Ravi Prakash
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गर्व की बात
गर्व की बात
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अंधविश्वास
अंधविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
मौहब्बत क्या है? क्या किसी को पाने की चाहत, या फिर पाकर उसे
पूर्वार्थ
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
"ग्लैमर"
Dr. Kishan tandon kranti
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बस चलता गया मैं
बस चलता गया मैं
Satish Srijan
Loading...