Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2022 · 1 min read

होली

होली
गोकुल की गलियों में,मची होली की धूम।
मस्त मगन हो नांचे गाए,सभी रहे हैं झूम।।१।।

राधिका प्यारी खेले,सांवरिया के साथ
होली के रंगों से रंगे,सबने अपने हाथ।।२।।

????
रचना- पूर्णतः मौलिक एवं स्वरचित
निकेश कुमार ठाकुर
गृहजिला- सुपौल
संप्रति- कटिहार (बिहार)
सं०-9534148597

Language: Hindi
1 Like · 221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
किताब
किताब
Sûrëkhâ
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
Ravi Prakash
समझौता
समझौता
Shyam Sundar Subramanian
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
भीष्म देव के मनोभाव शरशैय्या पर
Pooja Singh
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कविता
कविता
Dr.Priya Soni Khare
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
*Author प्रणय प्रभात*
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
Loading...