Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2018 · 2 min read

होली

? ? ? ?
ले पिचकारी श्याम की, देना तन मन रंग।
भक्ति भाव रस प्रेम से, भींगा मेरा अंग ।। 1

होली ने दस्तक दिया , मौसम घोले भंग।
कहीं कहीं महफिल जमी, कहीं कहीं हुड़दंग।। 2

लौंगा और इलाइची, का लगवाया पान।
सुन कर मेरी प्रार्थना, जुटे सब मेहमान।। 3

होली ऐसी मद भरी, बूढ़े हुए जवान।
नैनों से घायल करें, मारे तीर कमान।। 4

होली के दिन भूलिए, भेदभाव अभिमान।
तन मन को निर्मल करे, प्रेम रंग पहचान। 5

रोम-रोम चंपा घुली, बेला महके अंग।
अबके होली जो मिले, पिया हमारे संग। 6

गोरे गोरे अंग पर, चढ़े चटख सब रंग।
लाल नील पीले हरे, रँगे अंग प्रत्यंग।। 7

होली आई सोच के, कब से हुए अधीर।
बालम आये फाग में, फिर से उड़े अबीर।। 8

हर दिन हर पल हर घड़ी, खेल रहा दिल फाग।
मेरे मन में बह उठे, मृदु शीतल अनुराग।। 9

मौका आया यार ने, डाला नहीं गुलाल।
मुरझाये से ही रहे, मेरे दोनों गाल।।10

गली गली टोली चली, उड़े अबीर गुलाल।
धरती से आकाश तक, लागे लालम लाल।। 1 1

सजे हमारे आँगना, होली के त्योहार।
बुरी बलाये दूर हो, शगुन सजाये द्वार।। 12

हर्बल रंगों का करें, होली में उपयोग।
होते कृत्रिम रंग से, कई तरह के रोग।। १३

हल्दी चंदन फूल से, स्वयं बना ले रंग।
खुशियों के त्योहार में, नहीं पड़ेगी भंग।।१४

थोड़ा सरसों तेल से, सिर पर करें मसाज।
रंगों के नुकसान से, बचने का यह राज।। १५

हल्दी, चंदन, फूल से करें रंग तैयार।
त्वचा नर्म कोमल रहे, सौन्दर्य में निखार।। १६

खेलें हर्बल रंग से, होली अबकी बार।
कृत्रिम रंगों का करें, सब मिलकर प्रतिकार।। १७

वाह वाह क्या बात है, नहीं अबीर गुलाल।
खाली हाथ खड़ा रहा, नाम केजरीवाल।। १ ८
? ? ? ? —लक्ष्मी सिंह ? ☺

Language: Hindi
324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लेकिन क्यों ?
लेकिन क्यों ?
Dinesh Kumar Gangwar
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
भारत को निपुण बनाओ
भारत को निपुण बनाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*Author प्रणय प्रभात*
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"कष्ट"
नेताम आर सी
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंगों की सुखद फुहार
रंगों की सुखद फुहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
बातें की बहुत की तुझसे,
बातें की बहुत की तुझसे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
सफ़ेदे का पत्ता
सफ़ेदे का पत्ता
नन्दलाल सुथार "राही"
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
होली का त्यौहार (बाल कविता)
होली का त्यौहार (बाल कविता)
Ravi Prakash
Loading...