Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

होली (होली गीत)

सारे उत्सव,
फीके पड़ते
होली के सम्मुख ।
होली के सम्मुख ।

ईद भले हो
बिना दीद के,
लाए उदासी, दीवाली ।
लेकिन रंग,
नृत्य से होली
जाती नहीं कभी खाली ।

प्रणय-नीर से
तर हैं आँखें
औ’ गुलाल से मुख ।
होली के सम्मुख ।

हरियारे जंगल
में खिलते
रंग-बिरंगे-से टेसू ।
बस्ती-बस्ती
में आनंदित-
से लहराते हैं गेशू ।

निर्धन की कुटिया
से कुछ पल
दूर भागते दुख ।
होली के सम्मुख ।

तिलक लगाती
और नाचती
गलबहियों का है घेरा ।
रंगों से आपूर
समय ने
आकर डाला है डेरा ।

सुख का चिंतन
ही जीवन है
भोगो थोड़ा सुख ।
होली के सम्मुख ।

इतना सुंदर
पर्व नहीं है
पूरी पृथ्वी पर, देखो !
मस्ती,मद-
होशी,रंगों में
जिसको देखो,तर देखो !

मुँह-लटकाए
क्यों बैठे हो,
करो नृत्य का रुख ।
होली के सम्मुख ।

सारे उत्सव
फीके पड़ते
होली के सम्मुख ।
होली के सम्मुख ।
०००
—– ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 18 Comments · 613 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
"मौन"
Dr. Kishan tandon kranti
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
Bidyadhar Mantry
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
Manisha Manjari
कड़वा सच
कड़वा सच
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
Loading...