Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2019 · 1 min read

होली में

दिल का मलाल भूला दे होली में
मिलकर गुलाल लगा लें होली में
बरसाने वाले प्यार का रंग जमा लें होली में
राधा मैं श्याम बन जाओ तुम होली में।।
चांदनी रात में जल जाती है होलिका होली में
रंगीले गीत गाती है मस्तों की टोली होली में
रंग -रंग के रंग उड़ाते नाचे गाएं होली में
रंग भरी पिचकारी से आज भिगो दें होली में।।
गुझियों की मीठी मीठी खुशबू आती है होली में
मदमस्त हो सब पीते हैं भांग होली में
नाचे झूमें रंग बरसाएं आज मिलें होली में
द्वेष नफरत बिसरा कर प्यार बरसाएं होली में।।

कुंती नवल
20-3-2019

Language: Hindi
453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
नज़र बचा कर चलते हैं वो मुझको चाहने वाले
VINOD CHAUHAN
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
मां
मां
Lovi Mishra
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
Sanjay ' शून्य'
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
निर्मोही हो तुम
निर्मोही हो तुम
A🇨🇭maanush
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
*पत्थरों  के  शहर  में  कच्चे मकान  कौन  रखता  है....*
*पत्थरों के शहर में कच्चे मकान कौन रखता है....*
Rituraj shivem verma
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
Loading...