Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

होली का त्यौहार

माहौल पूरा रंगीन है
बंट रहा मीठा और नमकीन है।
गुलाल और गुब्बारों से सजा बाज़ार है
देखो आया होली का त्यौहार है।
गिले-शिकवो को तुम आज भूल जाओ
हंसी – ख़ुशी से तुम यह उत्सव मनाओ।
धमा-चौकड़ी बच्चों को करने दो
उनको तुम यह उत्सव जीने दो।
राधाकृष्ण भक्ति में झूम रहा संसार है
जैसे पूरा विश्व ही वृंदावन धाम है।
गुजिया – भल्ले से महकता हर घर आज है।
देखो आया होली का त्यौहार है।

– श्रीयांश गुप्ता

Language: Hindi
1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*प्रणय प्रभात*
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
लक्ष्मी सिंह
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
This generation was full of gorgeous smiles and sorrowful ey
पूर्वार्थ
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
*सौ वर्षों तक जीना अपना, अच्छा तब कहलाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
फ्रेम  .....
फ्रेम .....
sushil sarna
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
तुम्हे वक्त बदलना है,
तुम्हे वक्त बदलना है,
Neelam
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...