Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2017 · 1 min read

होली उत्सव प्रसंग पर…

तीन कुण्डलिया छंद

(1)
बहे बसंती पवन ले,अपने उर में प्यार.
कोयल गाकर कह रही,सरस करो सत्कार.
सरस करो सत्कार,पर्व यह प्रेम-भाव का.
होवे सच की जीत,शमन होवे दुराव का.
कह सतीश कविराय,खुले अंतर की ग्रंथी.
नफ़रत खाये मात,पवन यूँ बहे बसंती.

(2)
रीति निभाये प्रेम की,होली का त्योहार.
समरसता के रंग में,रमता हर घर-द्वार.
रमता हर घर-द्वार,खुशी आपस में बाँटे.
त्याग घृणा का भाव,दूरियाँ दिल की पाटे.
कह सतीश कविराय,गीत अंतर निज गाये.
होली का त्योहार,प्रेम की रीति निभाये.

(3)
कर्म-रंग में हम रँगें,प्रियवर! आठों याम.
सत्य मान इस वाक्य को,है आराम हराम.
है आराम हराम,चलो सद्कर्म करें हम.
स्वप्न करें साकार,स्वयं के स्वयं हरें ग़म.
कह सतीश कविराय,सीख यह छुपी भंग में.
रँगें सरस दिन-रात,सिर्फ़ हम कर्म-रंग में.
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"गिल्ली-डण्डा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
■ बड़ा सवाल
■ बड़ा सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
संगदिल
संगदिल
Aman Sinha
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
3075.*पूर्णिका*
3075.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली की मुबारकबाद
होली की मुबारकबाद
Shekhar Chandra Mitra
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
आपका आकाश ही आपका हौसला है
आपका आकाश ही आपका हौसला है
Neeraj Agarwal
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
कुडा/ करकट का संदेश
कुडा/ करकट का संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
Seema Verma
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...