Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2019 · 1 min read

होली आई रे…

गीत
Mar 19, 2019
होली आई होली आई होली आई रे…..
रंग बिरंगे फूलो की, डोली आई रे।

रंग गुलाल उड़ा,हवा की फुहार मे
मन का मैल धुला,प्रीत की धुआँर मे।
सब संग संग मिले,प्रेम के है पुष्प खिले
जो कभी नही मिले थे,प्रीत से वो गले मिले।।

रूठे हुए रिश्तों को मनाने आई रे…
गीत प्रीत और उमंग के सुनाने आई रे।

बसंत की बहार आई.संग टेशू फूल लाई
अमुआ के बौर संग,कोयल का पैगाम. लाई
मुँह से मीठा बोलो ,सदा,मुश्किल मे काम आओ।
आपस मे न बैर रखो,प्रेम से रिश्ते निभाओ।।

मिश्री मिठास से,खटास,मन की भगाने आई रे…
सबके दिलो मे,हर्ष उल्लास जगाने आई रे।

हरा रंग उड़ने लगा है, इस धरा की गोद मे
लाल रंग दौड़ पड़ा है,अंबर की होड़ मे।
पीला रंग ढकने लगा है,उस रवि के तेज को
गुलाबी रंग ने ढक लिया ,सबके मुख के ओज को।।

तपन केआगाज़ से, सख्त मन को पिघलाने आई रे…
इंद्रधनुषी रंगों से, मन को,सबके हरषाने आई रे।

रेखा कापसे(Line_lotus)
होशंगाबाद, मध्यप्रदेश

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Likes · 498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from रेखा कापसे
View all
You may also like:
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
"कहीं तुम"
Dr. Kishan tandon kranti
पहला-पहला प्यार
पहला-पहला प्यार
Shekhar Chandra Mitra
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
*कभी मन भीग जाता है, नयन गीला नहीं होता (मुक्तक)*
*कभी मन भीग जाता है, नयन गीला नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
अंधेरे आते हैं. . . .
अंधेरे आते हैं. . . .
sushil sarna
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
"कौन अपने कौन पराये"
Yogendra Chaturwedi
23/214. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/214. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Hajipur
Hajipur
Hajipur
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंजीर बर्फी
अंजीर बर्फी
Ms.Ankit Halke jha
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
■ नहले पे दहला...
■ नहले पे दहला...
*Author प्रणय प्रभात*
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
Propose Day
Propose Day
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बूत परस्ती से ही सीखा,
बूत परस्ती से ही सीखा,
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...