Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 21, 2019 · 1 min read

होली आई रे…

गीत
Mar 19, 2019
होली आई होली आई होली आई रे…..
रंग बिरंगे फूलो की, डोली आई रे।

रंग गुलाल उड़ा,हवा की फुहार मे
मन का मैल धुला,प्रीत की धुआँर मे।
सब संग संग मिले,प्रेम के है पुष्प खिले
जो कभी नही मिले थे,प्रीत से वो गले मिले।।

रूठे हुए रिश्तों को मनाने आई रे…
गीत प्रीत और उमंग के सुनाने आई रे।

बसंत की बहार आई.संग टेशू फूल लाई
अमुआ के बौर संग,कोयल का पैगाम. लाई
मुँह से मीठा बोलो ,सदा,मुश्किल मे काम आओ।
आपस मे न बैर रखो,प्रेम से रिश्ते निभाओ।।

मिश्री मिठास से,खटास,मन की भगाने आई रे…
सबके दिलो मे,हर्ष उल्लास जगाने आई रे।

हरा रंग उड़ने लगा है, इस धरा की गोद मे
लाल रंग दौड़ पड़ा है,अंबर की होड़ मे।
पीला रंग ढकने लगा है,उस रवि के तेज को
गुलाबी रंग ने ढक लिया ,सबके मुख के ओज को।।

तपन केआगाज़ से, सख्त मन को पिघलाने आई रे…
इंद्रधनुषी रंगों से, मन को,सबके हरषाने आई रे।

रेखा कापसे(Line_lotus)
होशंगाबाद, मध्यप्रदेश

5 Likes · 224 Views
You may also like:
क्या क्या कह दिया मैंने
gurudeenverma198
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
पत्ते
Saraswati Bajpai
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️ते मोगऱ्याचे झाड होते✍️
'अशांत' शेखर
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
इश्क की खुशबू में ।
Taj Mohammad
पिता
Meenakshi Nagar
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
Loading...