Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

होना नहीं अधीर

गीतिका
~~
धन दौलत का अभिमान लिए, होना नहीं अधीर
है जिसका हृदय जितना बड़ा, उतना वही अमीर

बहुत प्रयास किए लेकिन जब, मिले नहीं परिणाम
नया अभी कुछ कर के देखें, पीटें नहीं लकीर

पुरखों का यह देश पुरातन, अपना देश महान
नेता बहुत भ्रम में यहां, समझें निज जागीर

निशा निराशा मिट जाती है, करते रहें प्रयास
तेज रौशनी की किरणें जब, तम को देती चीर

काम सभी के आना सीखें, यही हमारा धर्म
खिला रहेगा जब मन अपना, देगा साथ शरीर

भाव नहीं रह पाते वश में, दर्शाते हर बात
जब छलकेगा स्नेह नयन से, खूब बहेगा नीर

सेतु बनाएं स्नेह भरे हम, आ जाएंगे पास
कभी नहीं आपस में मिलते, किसी नदी के तीर
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १७/०५/२०२४

2 Likes · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
"कविता और प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
Sonam Puneet Dubey
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
एक लम्हा भी
एक लम्हा भी
Dr fauzia Naseem shad
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ठीक है
ठीक है
Neeraj Agarwal
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
आंगन की किलकारी बेटी,
आंगन की किलकारी बेटी,
Vindhya Prakash Mishra
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
***होली के व्यंजन***
***होली के व्यंजन***
Kavita Chouhan
नारी के सोलह श्रृंगार
नारी के सोलह श्रृंगार
Dr. Vaishali Verma
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
Loading...