Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

‘होते मानव के लिए, मानव के अधिकार’ : दोहे

छंद:-दोहा
(दो पंक्तियाँ, चार चरण, प्रति पंक्ति १३, ११ मात्राओं
पर यति. विषम चरणों के प्रारंभ में जगण निषिद्ध)
_____________________________________
सारा नशा उतार दें हिन्दुस्तानी मर्द.
पाकिस्तान चला रहे असली दहशतगर्द..

गला काटकर जो करे, मज़हब का व्यापार.
दानव वो, मानव नहीं, नहीं किसी का यार..

मोह लोभ के साथ में, त्याग दीजिए स्वार्थ.
आतंकी अब सामने, शस्त्र उठा लें पार्थ..

होते मानव के लिए, मानव के अधिकार.
आतंकी मानव नहीं, मौक़ा है दें मार..

झंडा पकिस्तान का. ताने असुर समाज.
गद्दारी जो भी करे, दोज़ख का दें राज..

कश्मीरी पंडित बनें, सिख गुर्जर औ जाट.
घाटी में उनको बसा, खड़ी करें अब खाट..

कर्मों की पाकर सज़ा, आज मरा बुरहान.
अम्मा बनकर रो रहा, पीछे पाकिस्तान..

पाकिस्तानी दे रहे, नफरत का सन्देश.
दुनिया अब तो मान ले, आतंकी वह देश..

लेते नाम कुरान का, करते काम तमाम..
अनुयायी भटके हुए, पछताये इस्लाम..
__________________________________
प्रस्तुति: इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
मुस्कुराकर देखिए /
मुस्कुराकर देखिए /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
*लगे जो प्रश्न सच, उस प्रश्न को उत्तर से हल देना 【मुक्तक】*
*लगे जो प्रश्न सच, उस प्रश्न को उत्तर से हल देना 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यारी
यारी
अमरेश मिश्र 'सरल'
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
gurudeenverma198
💐भगवान् तथा आनन्द:💐
💐भगवान् तथा आनन्द:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
नारी से संबंधित दोहे
नारी से संबंधित दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...