Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

होकर मजबूर हमको यार

होकर मजबूर हमको यार, ऐसा करना पड़ा।
तुम्हारे लिए हमको, अपना दिल बदलना पड़ा।।
तुम्हारे लिए हमको यार—————-।।

हो गया था हमको अहसास, प्यार तुमको है किससे।
वैसे हमको भी कभी भी, नहीं मिली मोहब्बत तुमसे।।
नहीं मिलती इज्जत हमको, बेवफा बनना पड़ा।
होकर मजबूर हमको यार——————।।

कम से कम तेरे लिए तो,नहीं था पाप मेरे मन में
सींच रहा था अपने खूं से, यह तुम्हारा चमन मैं।।
आजीज होकर फिर हमको, बेरहम बनना पड़ा।
होकर मजबूर हमको यार——————।।

हमने इंतजार किया कि, बदलोगे तुम कभी आदत।
छोड़ोगे तुम बदतमीजी, और हमसे अपनी नफरत।।
छोड़कर हमको भी शर्म, रिश्ता तुमसे तोड़ना पड़ा।
होकर मजबूर हमको यार——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है*
Dushyant Kumar
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
gurudeenverma198
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
Shyam Pandey
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
Arvind trivedi
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
Dr. Shailendra Kumar Gupta
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
वह मेरे किरदार में ऐब निकालता है
कवि दीपक बवेजा
"जाति"
Dr. Kishan tandon kranti
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
कितना भी दे  ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
कितना भी दे ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
Dr Archana Gupta
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
💐Prodigy Love-8💐
💐Prodigy Love-8💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
'अशांत' शेखर
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
Vishal babu (vishu)
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
Ms.Ankit Halke jha
■ आज का कटाक्ष...
■ आज का कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुबाँ चुप हो
जुबाँ चुप हो
Satish Srijan
"तेरे बिन "
Rajkumar Bhatt
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
Loading...