Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़

होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
क्या चाय से करार है???? के पहले मैं
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
“ख़ामोश सा मेरे मन का शहर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कलम के सिपाही
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
21)”होली पर्व”
21)”होली पर्व”
Sapna Arora
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*Author प्रणय प्रभात*
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...