Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

सच की क़ीमत

सच बोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
भेद खोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
जग को अमृत देने के लिए
खुशी-खुशी अपने रगों में!
ज़हर घोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
#GauriLankesh #धर्मांधता
#बुद्धिजीवी #इंकलाबी #हत्या #पत्रकार #अभिव्यक्ति_के_खतरे
#साहस #हल्लाबोल #media

16 Views
You may also like:
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
पंचशील गीत
Buddha Prakash
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
देश के नौजवानों
Anamika Singh
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
Loading...