Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

सच की क़ीमत

सच बोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
भेद खोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
जग को अमृत देने के लिए
खुशी-खुशी अपने रगों में!
ज़हर घोलने की हिम्मत
आजकल कितनों में है?
#GauriLankesh #धर्मांधता
#बुद्धिजीवी #इंकलाबी #हत्या #पत्रकार #अभिव्यक्ति_के_खतरे
#साहस #हल्लाबोल #media

Language: Hindi
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घूँघट (घनाक्षरी)
घूँघट (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
shabina. Naaz
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
Anand.sharma
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
😊#लघु_व्यंग्य
😊#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
तुम अपने धुन पर नाचो
तुम अपने धुन पर नाचो
DrLakshman Jha Parimal
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
आज की प्रस्तुति: भाग 4
आज की प्रस्तुति: भाग 4
Rajeev Dutta
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...