Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2016 · 1 min read

==* है बधाई ईद आई *==

है बधाई है बधाई ईद आई ईद आई
है बधाई ईद आई

दिली बधाई है मेरे भाई
हिंदू मुस्लिम सिख इसाई
जश्न-ईद का साथ मनाये
जात धर्म सब छोड़ भाई

है बधाई है बधाई ईद आई

क्या लेकर आई ये दुनियाँ
धर्म जात किसने बनाई
यार पढ़ले एकबार तू गीता
क़ुरान मैंने दिल में बसाई

है बधाई है बधाई ईद आई

गुरुद्वारे में सजदा करू मैं
चर्च में बाईबल अपनाई
खून तो देखो एक जैसा है
रंग रंग में क्यू है बुराई

है बधाई है बधाई ईद आई

चंद मतलबी चाहे झुकाना
झुकी कभी ना है सच्चाई
अमन शांती के हम रखवाले
दुश्मनों की शामत है आई

है बधाई है बधाई ईद आई

नफरत की औकात क्या है
आज प्यार की रुत है आई
हम सब यारो मिल कर गाये
ईद आई ईद आई ईद आई

है बधाई है बधाई ईद आई ईद आई
है बधाई ईद आई
———————//**–
शशिकांत शांडिले (एकांत), नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
दि.१३/०९/२०१६

Language: Hindi
406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
वो और राजनीति
वो और राजनीति
Sanjay ' शून्य'
■ताज़ा शोध■
■ताज़ा शोध■
*Author प्रणय प्रभात*
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
नारी तुम
नारी तुम
Anju ( Ojhal )
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
Er. Sanjay Shrivastava
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
आज कल लोगों के दिल
आज कल लोगों के दिल
Satish Srijan
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
सनातन भारत का अभिप्राय
सनातन भारत का अभिप्राय
Ashutosh Singh
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
साधु न भूखा जाय
साधु न भूखा जाय
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बेमेल कथन, फिजूल बात
बेमेल कथन, फिजूल बात
Dr MusafiR BaithA
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
या'रब हमें हर बुराई से
या'रब हमें हर बुराई से
Dr fauzia Naseem shad
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डिजिटलीकरण
डिजिटलीकरण
Seema gupta,Alwar
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Loading...