Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

है कश्मकश – इधर भी – उधर भी

क़त्लेआम का सैलाब है
द़िमाग में ज़नून और
सब्र ज़मींदोज़ है
इधर भी – उधर भी

लहू के रंग मे
ज़हर सा है घुल गया
फैली फिज़ाँ में है दहशत
बहती है नसों में नफ़रत
इधर भी – उधर भी

श़क के हैं दरख़्त अब
रिश़्तों में इंसान के
शैतानों के ठहाके हैं
हिस्से में है ख़ौफ़
हर अवाम के
इधर भी – उधर भी

दरिंदगी ने मायने बदल दिये हैं
ख़ुशनुमा तेहवारों के
ख़ून से जलाते दिये
अब ख़ून की ही होती होली
और दर्द का ग़ुलाल है
इधर भी – उधर भी

जो बेचते हैं मौत
वो बख़्तरबंद में घूमते हैं
जाती हैं जानें उनकी
मयस्सर नहीं हैं छत जिनकों
यही मलाल है
इधर भी – उधर भी

Language: Hindi
71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
कवि रमेशराज
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
Never forget
Never forget
Dhriti Mishra
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
Bramhastra sahityapedia
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
इस ठग को क्या नाम दें
इस ठग को क्या नाम दें
gurudeenverma198
■ अब सब समझदार हैं मितरों!!
■ अब सब समझदार हैं मितरों!!
*प्रणय प्रभात*
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
चाहत अभी बाकी हैं
चाहत अभी बाकी हैं
Surinder blackpen
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
संत रविदास!
संत रविदास!
Bodhisatva kastooriya
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
Shashi kala vyas
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...