Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

हे ! मेरे फेसबुक …………

फेसबुक ने मुझे नई
ज़िंदगी दी जीने की
एक वजह दी,
प्यार भी हुआ तो
फेसबुक पर ही
धोखा मिला
फेसबुक से ही
अपने बने कुछ
इसी फेसबुक से
कुछ दूर भी हो गए
इसी फेसबुक से
आज पहचान है कुछ
तो फेसबुक से ही
मुस्कुराता हूँ कभी
इसी फेसबुक से
हँसता हूँ कभी तो
कभी दुःख भी व्यक्त करता हूँ
इसी फेसबुक से
क्या क्या न दिया
इस फेसबुक ने
खोया हुआ इंसान भी मिला
दिया इस फेसबुक ने
आप भी साथ हो मेरे मगर
इसी फेसबुक पे !
हम सभी दूर हैं
एक दूसरे से
तो क्या हुआ एहसास
तो ज़िंदा है
इसी फेसबुक से
कुछ नया हुआ
तो पता चला इसी
फेसबुक से
कोई चला भी गया
वो भी जान पाया
इसी फसेबुक से
कुछ विचित्र सी बातें
जान सका इसी
फेसबुक से
दुनिया को पहचान रहा हूँ
इसी फेसबुक से
ज़ुकरबर्ग का तो पता नहीं
बस मौज उड़ा रहे हैं सब
इसी फेसबुक पे
सब बैठे हैं सामने
मगर मस्त हैं सब
इसी फेसबुक पे
कोई ठहासे लगा रहा
तो किसी की आँखें नम हैं
इसी फेसबुक से
कोई परेशान हैं
लाइक न मिलने से तो
कोई कॉपी पेस्ट में
व्यस्त है खुद की ख़ुशी के लिए
हे ! मेरे फेसबुक,हे ! मेरे फेसबुक
________________________________बृज

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 8 Comments · 648 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
"उल्लू"
Dr. Kishan tandon kranti
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
बापू
बापू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
#गजल:-
#गजल:-
*Author प्रणय प्रभात*
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
2998.*पूर्णिका*
2998.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हो गया
हो गया
sushil sarna
मंजिल
मंजिल
Soni Gupta
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...