Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

हे मानव! प्रकृति

हे मानव! प्रकृति को तूने,
कैसा दूषित कर डाला।
सुंदर- स्वच्छ अवनी को तूने,
प्रदूषित तत्वों से भर डाला।
स्वच्छंद पवन अरण्य सघन,
निरंतर तरनी की धारा को,
तूने ही दूषित कर डाला,
देवनदी पवित्र किनारा को।
अस्वच्छ सिंधु के तट धरा पर,
अपशिष्ट पदार्थों के प्लावन से।
रासायनिक प्रदूषण फैला रहा तू,
विषैले कार्बनिक रसायन से।
भूमंडलीयऊष्मीकरण के जैसे
वायु प्रदूषण के दुष्परिणाम है।
वात के माध्यम से जो पसर रही
ये रुग्णता उसी का प्रमाण है।
है अंतिम अवसर अब न चेते तो,
भविष्य विकट दुष्कर होगा,
पृथ्वी पर न जीवन होगा,
न किसी जीव का घर होगा।
@साहित्यगौरव

1 Like · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
....????
....????
शेखर सिंह
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"कश्मकश"
Dr. Kishan tandon kranti
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*प्रणय प्रभात*
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एहसास
एहसास
Vandna thakur
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
सत्य कुमार प्रेमी
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
एक तरफ़ा मोहब्बत
एक तरफ़ा मोहब्बत
Madhuyanka Raj
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जमाना खराब है
जमाना खराब है
Ritu Asooja
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
Loading...