Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

हे पैमाना पुराना

हे पैमाना पुराना
दिखता हे नया आज भी।
हे जो शराब उसमें
हे उसमें नशा बरकरार उतना ही आज भी।
☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️☘️

141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारे एहसास के
सारे एहसास के
Dr fauzia Naseem shad
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
My City
My City
Aman Kumar Holy
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
💐प्रेम कौतुक-494💐
💐प्रेम कौतुक-494💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"आखिर में"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
खो गयी हर इक तरावट,
खो गयी हर इक तरावट,
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
*अंगूर (बाल कविता)*
*अंगूर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
कवि दीपक बवेजा
3107.*पूर्णिका*
3107.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...