Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2022 · 2 min read

हृद् कामना ….

हृद्-कामना…

यही कामना जग में सबसे, सरल-सहज व्यवहार करूँ।
तेरी कृपा के गुल खिलें तो, उन्हें गले का हार करूँ।।

नहीं चाहिए मुझको प्रभुवर, किस्मत से कुछ भी ज्यादा।
लिखा भाग्य में जितना मेरे, बस उतना स्वीकार करूँ।।

दो रोटी-दो वस्त्रों में भी, जब जीवन चल सकता है।
घुल-घुल कर चिंता में धन की, क्यों खुद को बीमार करूँ।।

हिफ़ाजत चराग़ों की करना, काम यही बस मेरा है।
तूफां की सहगामी बनकर, क्यों अपनों पर वार करूँ।।

कुछ न साथ लाई थी अपने, कुछ न साथ ले जाऊँगी।
लडूँ-मरूँ फिर किसकी खातिर, क्यों जीवन दुश्वार करूँ।।

अपने लिए कमाना खाना, यह तो ढोर-प्रवृत्ति है।
मिल-बाँट सब खाएँ सनेही, खुश-खुश सब त्योहार करूँ।।

धीरज रखना औ गम खाना, मैंने माँ से सीखा है।
संस्कार दिए हैं जो उसने, क्या उन्हें शर्मसार करूँ ।।

गोद खिलाया जिस बेटे को, थपकी दे-दे पुचकारा।
उसे दूर कर दिल से कैसे, बीच खड़ी दीवार करूँ।।

जिन्हें बनाकर साक्षी अपना, बचपन सुखद गुजारा है।
उन गली-कूँचों को रुसवा, क्यों मैं सरेबाज़ार करूँ।।

बचपन जिया साथ में जिसके, सर नेह-सरोपे रोपे।
धन की खातिर उस भाई से, तू-तू मैं-मैं रार करूँ ?

मुझको मेरे अपने सब जन, प्राणों से भी प्यारे हैं।
फिर क्यों अवहेला कर उनकी, पैसों का व्यापार करूँ।।

यकीं नहीं अपने पर मुझको, सिर्फ भरोसा तुम पर है।
थमा हाथ पतवार तुम्हारे, जीवन-नैया पार करूँ।।

वरद हस्त रख सर पर मेरे, लोभ-मोह प्रभु दूर करो।
परम तत्व का भान मुझे हो, कलुष-वृत्ति संहार करूँ।।

आँकें नयन छवि तुम्हारी, मन-मंदिर में उसे बसा
हर विकार का प्रक्षालन कर, तमस भेद उजियार करूँ।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
साझा संग्रह “काव्य प्रभात” में प्रकाशित

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसे ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
इश्क़-ए-फन में फनकार बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
Neelofar Khan
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता
कविता
Shiva Awasthi
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
"आशिकी ने"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...