Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई

हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
क्यों न पुनः आरंभ एक नई कहानी करें

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट मप्र

465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
Be with someone you can call
Be with someone you can call "home".
पूर्वार्थ
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
विश्वास करो
विश्वास करो
TARAN VERMA
साधना
साधना
Vandna Thakur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
अरशद रसूल बदायूंनी
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"सम्भावना"
Dr. Kishan tandon kranti
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
Mangilal 713
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
हमें
हमें
sushil sarna
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
Ranjeet kumar patre
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
*Author प्रणय प्रभात*
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
Arvind trivedi
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
Ravi Prakash
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
Satish Srijan
Loading...