Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

हिन्द के बेटे

कितने ही जानलेवा हो वार
वो कोई भी वार झेल सकते हैं
मत भूलो, हिंद के बेटे हैं वो
अपनी मौत से खेल सकते हैं

एक पल खड़ा रहना जहां
मुमकिन नहीं इंसान के लिए
हिमालय पर मुस्तैद रहते हैं
वो दुश्मनों से लोहा लेने के लिए

खौफ खाते हैं दुश्मन
उनकी वीरता के अंदाज से
देश की रक्षा करने वाले
डरते नहीं युद्ध के अंजाम से

उनको तो सपने भी आते हैं
मां भारती की पावन मिट्टी के
आज भी इंतज़ार में रहते हैं
वो अपनों की एक चिट्ठी के

हर पल वो तैयार रहते हैं
अपना सर्वस्व देश पर
न्यौछावर करने के लिये
कसम खा रखी है उन्होंने
कुछ भी कर जाएंगे वो
देश की सुरक्षा करने के लिए

किस गोली पर लिखी है मौत उनकी
इस बात की उनको कोई परवाह तक नहीं
हंसते हंसते कुर्बान हो जाते हैं देश के लिए
निकलती उनके मूंह एक आह तक नहीं।

Language: Hindi
10 Likes · 2 Comments · 4404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
2835. *पूर्णिका*
2835. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
"मयकश बनके"
Dr. Kishan tandon kranti
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
surenderpal vaidya
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
Sonam Puneet Dubey
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
Neeraj Agarwal
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
Loading...