Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2016 · 1 min read

हिन्द की फिजा में जहर घोल रहे हैं

हिन्द की फिज़ा मे जहर घोल रहे हैं
हम खुद जबां दुश्मन की बोल रहे हैं
****************************
बेठे हैं जो हम सारे हिन्द की पनाह मे
कियूं रास्ते हम दुश्मनो के खोल रहे हैं
****************************
किस्से मे भी तेरे नही कोई माँ भारती
इक दूसरे की खामियां खखोल रहे हैं
****************************
कहीं खा रहा सरहदों पे गोलियां कोई
कहीं बेच के जमीर नमक तोल रहे हैं
****************************
जब इक हमारी राह कियूं ढूंढते अलग
अलग अलग वजूद कियूं टटोल रहे हैं
****************************
कपिल कुमार
17/11/2016

267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
■ इससे ज़्यादा कुछ नहीं शायद।।
■ इससे ज़्यादा कुछ नहीं शायद।।
*प्रणय प्रभात*
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
आहुति  चुनाव यज्ञ में,  आओ आएं डाल
आहुति चुनाव यज्ञ में, आओ आएं डाल
Dr Archana Gupta
मजे की बात है
मजे की बात है
Rohit yadav
"दुनिया को पहचानो"
Dr. Kishan tandon kranti
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Mushaakil musaddas saalim
Mushaakil musaddas saalim
sushil yadav
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
जब कोई हो पानी के बिन……….
जब कोई हो पानी के बिन……….
shabina. Naaz
Loading...