Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

हिन्दी

मंदिर की घंटियों सी मीठी ध्वनि है
हर इंसान के ह्रदय में धीरे से उतरी है ।
ईश्वर से मिलने की सीढ़ी है यह
प्रेम व विश्वास की धारा है यह
वज्र सी कठोर नहीं माँ सी कोमल है
सिंह की गर्जन नहीं लोरी है यह ।
रूठों को मनाना है हिंदी अपनाएं
मतभेद भुलाना है हिंदी अपनाएं ।
इस भाषा में जो मिठास है वह कहीं नहीं
चाहे हम राष्ट्र में चले जाएँ कहीं ।
हर दिल को ज़रूर लुभाती है हिंदी
बोलिए ज़रूर प्यार बढाती है हिंदी ।

Language: Hindi
1 Comment · 440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
माँ
माँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
Sunil Maheshwari
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
अपना बिहार
अपना बिहार
AMRESH KUMAR VERMA
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन में...
जीवन में...
ओंकार मिश्र
"झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी पुस्तक "रामपुर के रत्न" का लोकार्पण*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
कोई बात नहीं देर से आए,
कोई बात नहीं देर से आए,
Buddha Prakash
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...