Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2023 · 1 min read

हिन्दी माई

*ज्ञानार्जन का साहस देकर
मुस्काती दिखती मां हिंदी
पढ़ लिखकर नूतन रचने का
ऐसा यश देती मां हिंदी

यहां अनेकों भाषा बोली
एक सूत्र यह बांधे बोली
जब शब्दों ने आंखें खोली
काव्य सजे मानो रंगोली

भाषा दूजी समझ ना आयी
तुमरे पास सहजता पायी
बहुत धनी है अपनी माई
बोलो हिंदी मेरे भाई

सदानन्द कुमार
समस्तीपुर बिहार*

216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
23/193. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/193. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बीजः एक असीम संभावना...
बीजः एक असीम संभावना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#लोकपर्व-
#लोकपर्व-
*Author प्रणय प्रभात*
प्रभु संग प्रीति
प्रभु संग प्रीति
Pratibha Pandey
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
Neelam Sharma
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
*जख्मी मुस्कुराहटें*
*जख्मी मुस्कुराहटें*
Krishna Manshi
रात
रात
SHAMA PARVEEN
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
Loading...