Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

हिन्दी दोहा बिषय-ठसक

हिन्दी दोहा विषय – ठसक*

आज दशहरा पर सुनो , अन्यायी परिणाम |
रावण की #राना ठसक , नष्ट किए प्रभु राम ||

ठसक नहीं #राना रखो , जिसमें हो अभिमान |
रावण जैसी आपको , बुरी मिले पहचान ||

ठसक यहाँ किस बात की , जाना खाली हाथ |
यहाँ कर्म का फल सदा , #राना रहता साथ ||

ठसक जहाँ गुमराह हो , होता है नुकसान |
कह सकते #राना यहाँ , डूबे सब अभिमान ||

ठसक ठहरकर दे सदा , #राना गहरी चोट |
चंगुल में यह फाँसकर , मन में लाती खोट ||

कंस हुआ रावण हुआ , देखो इनकी ओर |
ठसक गई #राना कहे , ले बदनामी शोर ||

एक हास्य दोहा –

धना ठसक दिखला रहीं , #राना रहा निहार |
नैनों से वह पूछती , कैसा है शृंगार || 😇🙋
***
✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़*
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
जाना ही होगा 🙏🙏
जाना ही होगा 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
अगर प्रफुल्ल पटेल
अगर प्रफुल्ल पटेल
*Author प्रणय प्रभात*
"अकेला"
Dr. Kishan tandon kranti
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...