Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

हिद्दत-ए-नज़र

कुछ ना कहकर भी वो बहुत कुछ कह जाते हैं ,
आंखों – आंखों में दिल का हाल बता जाते हैं ,
कुछ ना सुनकर भी वो सब कुछ भांप लेते हैं ,
आंखों – आंखों में दिल का हाल जान जाते हैं ,
उनकी हिद्दत – ए – नज़र से बचना है मुश्किल ,
दिल में छुपी हर बात को वो पहचान लेते है।

Language: Hindi
501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
न दें जो साथ गर्दिश में, वह रहबर हो नहीं सकते।
न दें जो साथ गर्दिश में, वह रहबर हो नहीं सकते।
सत्य कुमार प्रेमी
महाप्रलय
महाप्रलय
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हंसना - रोना
हंसना - रोना
manjula chauhan
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बेज़ारे-तग़ाफ़ुल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
मां - स्नेहपुष्प
मां - स्नेहपुष्प
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आंधी
आंधी
Aman Sinha
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
"आदि नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
ये धोखेबाज लोग
ये धोखेबाज लोग
gurudeenverma198
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मनमर्जी की जिंदगी,
मनमर्जी की जिंदगी,
sushil sarna
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
Neeraj Agarwal
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
■ सुन भी लो...!!
■ सुन भी लो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
रोगों से है यदि  मानव तुमको बचना।
रोगों से है यदि मानव तुमको बचना।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
Loading...