Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2024 · 1 min read

हितैषी

हितैषी (वर्ण पिरामिड)

जो
सभ्य
हितैषी
मानवता
से सदा भरा
उसका जीवन
सहज निरन्तर
अति सुखकर
सदा अमर
प्रियतर
मधुर
अमी
सा।

साहित्यकार डॉ0 रामबली मिश्र वाराणसी।

1 Like · 2 Comments · 15 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
Swara Kumari arya
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
gurudeenverma198
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
*Perils of Poverty and a Girl child*
*Perils of Poverty and a Girl child*
Poonam Matia
तेरा वादा.
तेरा वादा.
Heera S
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Bodhisatva kastooriya
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
पूर्वार्थ
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
नेता
नेता
Punam Pande
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
दिल की आवाज़
दिल की आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
विश्वेश्वर महादेव
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...