Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar

सरेआम हक़ उन पर जताएँ किस तरह
दिल की बात अपनी बताएँ किस तरह

जुल्फें हैं कि उड़ उड़ के आती है आँख पे
पूनम पे छाया बादल हटाएँ किस तरह

पड़ोस में रह कर जो रहें मुझसे बेखबर
वो दे रहें हैं मुझको सदाएँ किस तरह

आँखों के इशारे तो हमने देखे हैं बहोत
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह

ख़त वो जो कभी उनको भेजा नहीं मैंने
हम पूछते हैं उनको जलाएँ किस तरह

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

Language: Hindi
40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
अच्छे   बल्लेबाज  हैं,  गेंदबाज   दमदार।
अच्छे बल्लेबाज हैं, गेंदबाज दमदार।
गुमनाम 'बाबा'
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
" मेरी ओकात क्या"
भरत कुमार सोलंकी
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
Kuldeep mishra (KD)
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक नई उम्मीद
एक नई उम्मीद
Srishty Bansal
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जीवन का मूल्य
जीवन का मूल्य
Shashi Mahajan
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...