Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2023 · 2 min read

हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।

हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
-आचार्य रामानंद मंडल
वर्तमान भारत के चारटा नाम हय -आर्यावर्त, हिन्दुस्तान, इंडिया आ भारत।तहिना वर्तमान हिंदू धर्म के चार टा नाम हय -आर्य धर्म, ब्राह्मण धर्म,सनातन धर्म आ हिंदू धर्म ।समय यानी कि काल परिवर्तनशील हय।त जेना भारत के नाम बदलैत रहलैय तहिना धर्मो के नाम बदलैत रहलैय।आइ कालि सबसे ज्यादा चर्चा -परिचर्चा हिंदू आ हिंदू धर्म पर हो रहल हय। हिंदू धर्म के विरोध ज्यादा हिंदूये क रहल हय।खास के जे हिंदू धर्म मे शोषित आ दमित वर्ग हय। हिंदू धर्म में जे वर्णव्यवस्था वा वर्णाश्रम धर्म हय वोइसे लोग नाराज़ हय। आइ कालि संत तुलसीदास रचित रामचरितमानस पर ज्यादा वाद -विवाद हो रहल हय। रामचरितमानस में कुछ जाति के अधम आ नीच बतायल गेल हय।त उ वर्ग ज्यादा आक्रामक हय।वो लाजिमीयो हय।जैइ वर्ग के गुणगान वा महिमा मंडित कैल गेल हय वो वोकरा पक्ष मे हय।वोकर कहना हय कि रामचरितमानस में सभ जाति के समभाव सं देखल गेल हय। जेना शबरी के जूठा बैर खाय के बात त केवट के दोस्ती।त इहो बात अच्छा न लगैय हय।शबरी त भक्त हय। दासी हय पामर हय।नीच जाति के हय जे शबरी स्वयं स्वीकार करैय हय।भला अब अइ युग मे शबरी के जाति के कोई काहे मानत।केवट मल्लाह अपन दोस्त राम के गोर धो के पीयैत रहे।कि आइ के युग मे कोई दोस्त के गोर धो के पीयत।वोहु मे दोस्त में दोस्ताना होइ हय। बराबरी माने कि समानता के भाव। परंतु केवट आ राम के भाव दास आ प्रभु मालिक के भाव हय।त केवट वंशी वा कोई काहे मानत।इ सभ विरोध आइ न अतीत मेयो महात्मा बुद्ध,संत कबीर,संत रैदास, महात्मा फुले,संत पेरियार आ बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर कैले रहलन।
संत कबीर आ संत रैदास त राम के मानैत रहल। परंतु संत तुलसीदास के अयोध्यावासी राम के न वरन् घटघट वासी राम के मानैत रहलन। माने कि संत कबीर आ संत रैदास निर्गुण राम के त संत तुलसीदास सगुण राम के। निर्गुण राम वर्णरहित त सगुण राम वर्णाश्रित।
वर्तमान समय मे जे असल विवाद हय वो जातीय सामाजिक विषमता के लेके है न कि धार्मिकता के लेके। भारत के संविधान जातीय विषमता पर रोक लगबैय त कोनो धर्म के माने के स्वतंत्रता देइ। भारत के लोग के भारत के संविधान मे अपन विवाद के समाधान मिलत।
स्वरचित @सर्वाधिकार रचनाकाराधीन।
-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सह साहित्यकार सीतामढ़ी।

Language: Maithili
Tag: लेख
693 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नया साल
नया साल
Mahima shukla
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
कुछ पल जिंदगी के उनसे भी जुड़े है।
Taj Mohammad
"झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
3131.*पूर्णिका*
3131.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
sudhir kumar
दादी माँ - कहानी
दादी माँ - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देश हे अपना
देश हे अपना
Swami Ganganiya
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
Expectation is the
Expectation is the
Shyam Sundar Subramanian
#चिंतन
#चिंतन
*प्रणय प्रभात*
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
डॉ० रोहित कौशिक
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
*किताब*
*किताब*
Dushyant Kumar
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलना हमारा काम है
चलना हमारा काम है
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
शेखर सिंह
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
ये बेटा तेरा मर जाएगा
ये बेटा तेरा मर जाएगा
Basant Bhagawan Roy
Loading...