Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

हिंदी

जन जन की है भाषा हिंदी
भारत की अभिलाषा हिंदी
विश्व पटल पर कदम बढ़ाती
एक नई आशा है हिंदी

विश्व गुरू का मान है हिंदी
निज गौरव की आन है हिंदी
इससे बढ़कर नहीं और कुछ
भारत का स्वाभिमान है हिंदी

हमें गर्व हम हिंदुस्तानी
प्यारी हिंदी अपनी बानी
है भाषा ये पावन सरिता
ज्यों बहता गंगा में पानी

हिंदी को तुम प्यार करो
मां सा नेह दुलार करो
है भाषाओं की यह जननी
उसका नित सत्कार करो।

-डा विवेक सक्सेना

Language: Hindi
475 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
मेरा भाग्य और कुदरत के रंग...... एक सच
मेरा भाग्य और कुदरत के रंग...... एक सच
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
✍️ शेखर सिंह
✍️ शेखर सिंह
शेखर सिंह
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
Bodhisatva kastooriya
■ शायद...?
■ शायद...?
*प्रणय प्रभात*
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
आखिर वो माँ थी
आखिर वो माँ थी
Dr. Kishan tandon kranti
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
आए थे बनाने मनुष्य योनि में पूर्वजन्म की बिगड़ी।
आए थे बनाने मनुष्य योनि में पूर्वजन्म की बिगड़ी।
Rj Anand Prajapati
3634.💐 *पूर्णिका* 💐
3634.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
In case you are more interested
In case you are more interested
Dhriti Mishra
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
उमंग
उमंग
Akash Yadav
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
गर्म हवाएं चल रही, सूरज उगले आग।।
Manoj Mahato
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
Loading...